लक्ष्य

हिला दो जड़ें दुश्मन की, तुम वो भूचाल बन के चलो

जब जाना ही है एक दिन तो कुछ कमाल कर के चलो।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.